मीडिया Now - सीटी स्कैन से इतना डरने या घबराने की जरूरत नहीं है

सीटी स्कैन से इतना डरने या घबराने की जरूरत नहीं है

medianow 06-05-2021 18:29:24


गिरीश मालवीय / इंडियन रेडियोलॉजिकल एंड इमेजिंग एसोसिएशन ( IRIA ) ने बुधवार को बयान जारी करके यह साफ कर दिया डॉ रणदीप गुलेरिया का बयान लोगों को गुमराह करने वाला और कन्फ्यूजन को और बढ़ाने वाला बयान है और उसका कोई ठोस वैज्ञानिक आधार भी नहीं है।  सीटी स्कैन से इतना डरने या घबराने की जरूरत नहीं है। कुछ दिन पहले एम्स के डायरेक्टर डॉ रणदीप गुलेरिया ने चेतावनी दी थी कि इससे कैंसर होने का खतरा पैदा हो सकता है, क्योंकि एक सीटीसी स्कैन कराना 300-400 एक्स-रे एक साथ कराने के समान है, जिसका शरीर पर विपरीत असर पड़ सकता है। 

IRIA ने कहा है कि ऐसा नहीं है। .....छाती के एक सीटी स्कैन को 300-400 एक्स-रे के बराबर बताना और उसकी वजह से कैंसर का खतरा पैदा होने की चेतावनी देना पूरी तरह गलत और आउटडेटेड है। बयान में कहा गया है कि यह बहुत पुरानी बात है। ऐसी स्थिति 30-40 साल पहले हुआ करती थी, जबकि आज के आधुनिक युग में जिन सीटी स्कैनरों का उपयोग जांच के लिए किया जाता है, उनमें अल्ट्रा लो डोज यानी बेहद कम या हल्की रेडिएशन का इस्तेमाल किया जाता है, जो तुलनात्मक रूप से केवल 5-10 एक्स-रे के बराबर होती है। इसलिए इससे किसी तरह का खतरा होने या कैंसर की संभावना बढ़ने की संभावना बहुत कम होती है।

अब बताइये क्या ऐसा बयान देने की जरुरत भी थी डॉ रणदीप गुलेरिया को ?
क्या बिना डॉक्टर की सलाह के लोग CT स्कैन अपनी मर्जी से करवा रहे है ? और ये मान भी लिया जाए कि यदि वो बिना डॉक्टर के पर्चे के करवा रहे है तो क्या उनमे इतनी बुद्धि भी है कि उस रिपोर्ट में मेडिकल लेंग्वेज में जो लिखा रहता है  जो एक्सरे रहता है उसे वो खुद पढ़कर समझ लेंगे ?
अंततः रिपोर्ट लेकर वह डॉक्टर के पास ही जाएंगे न  ?
डॉ गुलेरिया जैसे सीनियर डॉक्टर से यह उम्मीद नहीं थी। 
- लेखक एक नामी समीक्षक हैं

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :