मीडिया Now - सिद्धार्थ नाथ सिंह ने पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री की बैठक में लिया भाग, संबोधन के दौरान कही ये बड़ी बात

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री की बैठक में लिया भाग, संबोधन के दौरान कही ये बड़ी बात

medianow 07-05-2021 20:01:57


लखनऊ। पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्री द्वारा राज्य के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों को बढ़ावा देने के लिए सरकारी योजनाओं के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए आज शुक्रवार वेबिनार का आयोजन किया गया। उक्त वेबिनार में योगी सरकार के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बतौक मुख्य अतिथि अपने विचार व्यक्त किये। इस दौरान उन्होंने कहा कि पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री से उम्मीद है कि वह सरकार को टेलीमेडीसिन कंसल्टेशन को कैसे बढ़ावा दे और विदेश जैसे ब्रिटेन, सिगापुर से कैसे सहयोग लिया जा सके। हेल्थ सेक्टर में आर एंड डी इकाई के निवेश में कैसे बढ़ावा दे जिससे उत्तर प्रदेश में अधिक से अधिक आर एंड डी इकाई स्थापित हो सके तथा एमएसएमई कैसे फिन्टेक कंपनियो द्वारा आसानी से ऋण प्राप्त कर सके इसपे सुझाव मांगे है।

संजय अग्रवाल प्रेसिडेंट पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश भारत का सबसे बड़ा और सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है। एमएसएमई क्षेत्र में सबसे अधिक उद्यमों के साथ उत्तर प्रदेश भारत में अग्रणी है। उत्तर प्रदेश सरकार ने इस क्षेत्र के विकास में सहायता के लिए समय-समय पर विभिन्न योजनाओं की घोषणा की है। कोविड -19 के कारण आर्थिक कठिनाई के मद्देनजर सरकार ने  ‘आत्मानिर्भर भारत ’पहल के तहत कुछ योजनाओं की घोषणा भी की है।

डॉ. ललित खेतान चेयरमैन उत्तर प्रदेश चैप्टर पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने कहा कि एमएसएमई उद्योग रोजगार सृजन के मामले में और निर्यात के माध्यम से विदेशी मुद्रा आय के स्रोत के रूप में यूपी अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण खंड हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश सरकार इस महामारी के दौरान भी राज्य में निवेशकों को सुरक्षित और निवेश के अनुकूल माहौल देने के लिए सभी संभव कदम उठा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य में निवेश का माहौल काफी बदल रहा है, जो कि भारत सरकार द्वारा जारी ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में राज्य द्वारा ली गई 12 रैंक की छलांग से स्पष्ट है। वह राज्य जो अब ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के मामले में देश में दूसरे स्थान पर है एवं  स्थापित उद्योगों के लिए ऑनलाइन और समयबद्ध बाउंड क्लीयरेंस को प्रभावी रूप से सिंगल विन्डो के रूप में कहा है जिसे “निवेशमित्र” कहा जाता है।

अनिल खेतान पूर्व प्रेसिडेंट पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने अपने संबोधन में बताया कि वर्तमान काल में एमएसएमई के लिए फिन्टेक कंपनियो का क्या रोल है तथा एमएसएमई फिन्टेक कंपनियो से ऋण लेने कि सुविधा का लाभ भी उठा सकते है। डॉ एचपी कुमार पूर्व सीएमडी एनअसआईसी एवं एडवाइजर पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री और संजीत कुमार सीनियर वाइस प्रेसिडेंट रिसर्जेंट इंडिया लिमिटेड ने कहा 90 प्रतिशत एमएसएमई रोजमर्रा जीवित रहने के काम कर रहे है तथा वर्तमान में एमएसएमई कि चुनौतियों के बारे में विस्तार में चर्चा करते हुए कुछ सुझाव भी दिए।

श्री केके शर्मा जनरल मैनेजर एनअसआईसी ने विस्तार में एनअसआईसी द्वारा नेशनल  एससी एसटी हब एवं वीमेन एंट्रेप्रिसेस से संबंधित योजनाओ के बारे में चर्चा की। डॉ एसएस आचार्य जनरल मैनेजर सिडबी (एनसीआर) ने सिडबी की शवास एवं अरोग्य योजनाओ के बारे में विस्तार में बताया। पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के प्रधान निदेशक डॉ रंजीत मेहता एवं अतुल श्रीवास्तव रेजिडेंट डायरेक्टर ने इस सत्र का अच्छी तरह से संचालित किया। मुकेश सिंह सीनियर एडवाइजर पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री उत्तर प्रदेश ने सभी प्रतिष्ठित गणमान्य व्यक्तियों और प्रतिभागियों को इस सार्थक सत्र के लिए अपना बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद प्रस्ताव भी प्रस्तुत किया। वेबिनार में बहुत अच्छी तरह से बातचीत हुई और पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के 100 से भी अधिक सदस्यों ने भाग लिया।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :