मीडिया Now - पर्दे में बेपर्दा होता सत्ता का अहंकार !

पर्दे में बेपर्दा होता सत्ता का अहंकार !

medianow 13-05-2021 14:22:27


विजय शंकर सिंह 

 अंदाज़ अपना देखते हैं आइने में वो 
और ये भी देखते हैं कोई देखता न हो !!

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट कोई निजी प्रोजेक्ट नहीं है। यह भारत सरकार द्वारा अनुमोदित और भारत सरकार के बजट से बन रहा है। इस प्रोजेक्ट लग रहा एक एक पैसा मेरा, आप का और हम सबका है। इस महामारी में जब लोग बड़ी संख्या में, बीमारी और बदइंतजामी के कारण मर रहे हैं तो बजट के उपयोग और प्राथमिकता पर जनता को, जिसके टैक्स का पैसा इस प्रोजेक्ट में लग रहा है, सवाल उठाने का संवैधानिक हक़ है। 

सरकार, जन प्रतिक्रिया और जनता द्वारा उठाये गए सवालों का उत्तर देने के लिये बाध्य है। इस प्रोजेक्ट को ढंक कर, और इसकी फोटोग्राफी के लिये प्रतिबंधित कर के सरकार ने खुद ही कहीं यह तो स्वीकार नहीं कर लिया है कि नदियों में बहती लाशों और अस्पतालों में मरते लोगों के दुःख, वेदना औऱ आह के बीच यह संगदिली सत्ता के अहंकार का ही प्रदर्शन है ? सरकार नए शहर बना सकती है। नए प्रोजेक्ट शुरू कर सकती है, पर तब जब स्थिति सामान्य हों। एक तरफ तो देश मे मेडिकल इमरजेंसी जैसे हालात हैं। औऱ दूसरी तरफ सरकार अपने लिये नए आवास औऱ संसद का निर्माण कर रही है। 

सरकार को इस प्रकार के अनुत्पादक व्यय तत्काल बंद कर के कोरोना के इलाज, टीकाकरण और जनस्वास्थ्य के मुद्दों पर ध्यान देना चाहिए। नयी संसद और नया आवास इस आपदा के गुजर जाने के बाद भी बन सकता है, पर मनुष्य का जीवन और उसकी बीमारी का इलाज पहली प्राथमिकता फिलहाल होनी चाहिए। 
- लेखक एक पूर्व आईपीएस अधिकारी रहे हैं

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :