मीडिया Now - कोरोना स्ट्रेन पर केजरीवाल के ट्वीट से सिंगापुर नाराज़, सरकार ने सफाई में कहा- वह भारत के लिए नहीं बोलते

कोरोना स्ट्रेन पर केजरीवाल के ट्वीट से सिंगापुर नाराज़, सरकार ने सफाई में कहा- वह भारत के लिए नहीं बोलते

medianow 19-05-2021 14:33:35


नई दिल्ली। देश में जानलेवा कोरोना वायरस की दूसरी लहर कहर बनकर टूट रही है. इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने तीसरी लहर को लेकर सिंगापुर पर बयानबाजी की है. उनकी इस बयानबाजी पर केंद्र सरकार को बीच में आकर सफाई देनी पड़ी. कल केजरीवाल ने कहा था कि सिंगापुर में सामने आया कारोना वायरस का एक नया स्वरूप बच्चों के लिए ‘बहुत खतरनाक’ बताया जा रहा है. इसलिए सरकार को सिंगापुर से आने-जाने वाली उड़ानें रद्द कर देनी चाहिए.

केजरीवाल ने क्या कहा था?
अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार से अनुरोध किया कि सिंगापुर के साथ समस्त हवाई सेवाओं को तत्काल रद्द किया जाए, क्योंकि वहां सामने आया कारोना वायरस का एक नया स्वरूप बच्चों के लिए ‘‘बहुत खतरनाक’’ बताया जा रहा है. केजरीवाल ने ट्वीट में आशंका जताई कि वायरस का यह नया स्वरूप तीसरी लहर के रूप में भारत में दस्तक दे सकता है.

दरअसल केजरीवाल ने मीडिया की एक रिपोर्ट का जिक्र करते हुए यह ट्वीट किया था. रिपोर्ट में सोमवार को कहा गया था कि सिंगापुर के बच्चों को वायरस के जिस स्वरूप का खतरा सामने आया है, वह सबसे पहले भारत में पाया गया था.  नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ वी के पॉल ने इस मीडिया रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए मंगलवार को कहा, ‘‘हम इसकी समीक्षा कर रहे हैं.’’

केजरीवाल की टिप्पणी पर केंद्र सरकार ने क्या कहा?
विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर ने केजरीवाल की टिप्पणी की आलोचना की है. उन्होंने ट्वीट करके कहा है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सिंगापुर और भारत ठोस भागीदार रहे हैं. हालांकि, जिन्हें ठीक पता होना चाहिए उनकी गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणियां हमारी लंबी साझेदारी को नुकसान पहुंचा सकती हैं. मैं स्पष्ट कर दूं कि दिल्ली के मुख्यमंत्री भारत के लिए नहीं बोलते हैं.’’

सिंगापुर के नए स्वरूप पर सरकार की नजर- पुरी
वहीं, विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि सिंगापुर की स्थिति पर केंद्र सरकार की नजर है और सभी एहतियात बरती जा रही हैं. पुरी ने ट्विटर पर कहा, ‘‘केजरीवाल जी, सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें मार्च 2020 से ही बंद हैं. सिंगापुर के साथ हमारा एयर बब्बल भी नहीं है.’’ उन्होंने कहा कि वंदे भारत मिशन के तहत दोनों देशों के बीच कुछ उड़ानें जारी हैं ताकि वहां फंसे भारतीयों को वापस लाया जा सके.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :