मीडिया Now - भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी केस में फिर नहीं हुआ फैसला, डोमिनिका कोर्ट में टली सुनवाई

भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी केस में फिर नहीं हुआ फैसला, डोमिनिका कोर्ट में टली सुनवाई

medianow 03-06-2021 20:38:15


नई दिल्ली। भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) को डोमिनिका (Dominica) से भारत लाने में अभी और समय लग सकता है. डोमिनिका हाई कोर्ट (Dominica High Court) में सुनवाई टल गई है. चोकसी फिलहाल डोमिनिका में ही रहेगा. जानकारी के मुताबिक अब अगली सुनवाई 1 जुलाई को हो सकती है. इधर, मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय ने पहली बार चुप्पी तोड़ी है. 

विदेश मंत्रालय ने पहली बार कही ये बात? 
विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत इस बात पर कायम है कि भगोड़ों को देश वापस लाया जाए. भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि भगोड़ों को भारत वापस लाने के अपने प्रयासों में भारत अडिग है. मेहुल चोकसी डोमिनिका की हिरासत में है और कुछ कानूनी कार्यवाही चल रही है. हम यह सुनिश्चित करेंगे कि उसे भारत वापस लाया जाए. 

जमानत की अर्जी खारिज
उधर, डोमिनिका के एक मजिस्ट्रेट ने मेहुल को जमानत देने से इनकार कर दिया. ‘डोमिनिका न्यूज ऑनलाइन’ की खबर के अनुसार, पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में 13,500 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मामले में वांछित चोकसी ने मजिस्ट्रेट के समक्ष कहा कि उसका अपहरण किया गया था और उसे पड़ेासी देश एंटीगुआ और बारबुडा से जबरन डोमिनिका लाया गया.

इस हालत में अदालत में पेश हुआ
व्हीलचेयर पर बैठा, 62 वर्षीय चोकसी काले रंग की निकर और नीले रंग की टी-शर्ट पहने हुए पीठासीन रोसियू मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश हुआ. उसे डोमिनिका चाइना फ्रेंडशिप हॉस्पिटल से अदालत लाया गया. इसी अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है.

इससे पहले बुधवार को चोकसी की बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर सुनवाई कर रहे डोमिनिका हाई कोर्ट ने अवैध प्रवेश के आरोपों का सामना करने के लिए उसे मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश करने का आदेश दिया था. बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका (Habeas Corpus Petition) ऐसे व्यक्ति को अदालत में पेश करने के लिए दायर की जाती है जो गिरफ्तार है या अवैध रूप से हिरासत में है.

चोकसी के वकील की दलील
चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने यहां कहा, ‘हमारा कहना है कि मेहुल चोकसी अवैध हिरासत में है इसलिए उसे 72 घंटों के भीतर मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश करने की आवश्यकता है. इसे सुधारने के लिए उसे मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश होने के लिए कहा गया है. यह साबित करता है कि चोकसी को अवैध हिरासत में रखा गया.’

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :