मीडिया Now - पिता की मौत के बाद प्रियंका गांधी बनीं ‘साइकिल गर्ल’ ज्योति का सहारा, उठाएंगी पढ़ाई का पूरा खर्चा

पिता की मौत के बाद प्रियंका गांधी बनीं ‘साइकिल गर्ल’ ज्योति का सहारा, उठाएंगी पढ़ाई का पूरा खर्चा

medianow 04-06-2021 16:11:35


पटना। देश में साइकिल गर्ल के नाम से मशहूर बिहार के मुजफ्फरपुर की रहने वालीं ज्योति पासवान के पिता की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी. ज्योति पिछले साल कोरोना काल में लॉकडाउन लगने के बाद अपने पिता को साइकिल में बैठाकर गुरुग्राम से दरभंगा पहुंची थी. उसके इस साहसी काम के बाद देश ही नहीं विदेशों में भी जमकर चर्चा हुई थी. ज्योति के पिता की मौत की खबर मीडिया में भी आई थी.

अब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ज्योति से बात की और उसकी हौसलाअफजाई की. प्रियंका गांधी ने वादा किया कि वे ज्योति की पढ़ाई का भी पूरा खर्च उठाएंगी. कांग्रेस महासचिव ने परिवार पर टूटे इतन बड़े दुख में उसकी हिम्मत बढ़ाई और कहा कि इस बुरे दौर में वह उसके परिवार के साथ हैं. उन्होंने साइकिल गर्ल से वादा किया कि अगर उसे किसी भी तरह की कोई मदद चाहिए तो वह बिना किसी हिचक के किसी भी कांग्रेसी से मदद ले सकती है.

ज्योति पासवान ने बातचीत के दौरान प्रियंका गांधी से फिलहाल किसी प्रकार की मदद नहीं मांगी लेकिन उसने उनसे मिलने की इच्छा जाहिर की. कांग्रेस महासचिव ने उसे आश्वासन दिया कि जैसे ही कोरोना खत्म होगा वह उससे दिल्ली में मिलेंगी. कांग्रेस नेता मशकूल अहमद उस्मानी ज्योति के घर पहुंचे और उसे प्रियंका गांधी द्वारा भेजे गए संवेदना पत्र सौंपे. उन्होंने साइकिल गर्ल से कहा कि प्रियंका दीदी ने कहा है- हम तुम्हारे साथ है किसी भी तरह की चिंता मत करना.

ज्योति ने बातचीत की दी जानकारी
प्रियंका गांधी से बात के बारे में ज्योति ने बताया कि प्रियंका दीदी से बात हुई है. उन्होंने मेरा और घर के लोगों का हालचाल पूछा. हमने उन्हें बताया कि पिछले लॉकडाउन में हम पापा को लेकर अपने गांव आए थे और इस लॉकडाउन में पापा नहीं रहे. प्रियंका दीदी ने कहा है कि पढ़ाई लिखाई के साथ और जो मदद होगी वह की जाएगी और अगर किसी चीज की कमी हो तो उसे बताना. ज्योति ने उनसे कहा कि बहुत कुछ सोचे थे करने के लिए लेकिन अब जब पिता जी ही नहीं रहे तो कैसे कर पाएंगे. दीदी ने इस पर कहा कि हम लोग तुम्हारे साथ हैं.

1200 किमी साइकिल चला कर गांव पहुंची थी ज्योति
आपको बता दें कि 2020 में कोरोना वायरस लॉकडाउन लगने के बाद ज्योति अपने बीमार पिता मोहन पासवान को साइकिल पर पीछे बिठा कर 1200 किलोमीटर साइकिल चलाकर अपने गांव पहुंची थी. बता दें कि जोति ने इस दौरान आठ दिन तक लगातार साइकिल चलाई थी. साइकिल गर्ल के नाम से मशहूर ज्योति को देश विदेश में काफी सराहना मिली थी.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :