मीडिया Now - आज बाबू जगजीवन राम का जन्म दिन है 

आज बाबू जगजीवन राम का जन्म दिन है 

medianow 05-04-2021 17:23:45


चंचल / 5 अप्रैल बाबू जगजीवन राम का जन्म दिन है। बाबू जी बिहार से उठे और तमाम 'असुविधाओं' को झेलते हुए शिखर पर जा बैठे। काशी विश्व विद्यालय के छात्र थे, बिरला छात्रावास के कमरा नम्बर 19 उनके नाम से आवंटित हुआ। यहां उन्हें  पाखंडी सनातनियों द्वारा बहुत अपमानित होना पड़ा था लेकिन इस विश्व विद्यालय का मोह वे कभी नही छोड़ पाए। 

हमारी उनसे जान पहचान 77 में हुई। हम संघ को हराकर छात्रसंघ का चुनाव जीते थे। इस खबर से बाबू जी बहुत खुश थे। इसके पहले ही वे हमारा नाम सुन  चुके थे। आपातकाल के खत्म होने के बाद बाबू जी कांग्रेस से अलग CFD बना लिए थे और सासाराम से प्रत्यासी थे। एक दिन सच्चिदा बाबू ( भाई जगदानंद के बड़े भाई और प्रसिद्ध समाजवादी )  बनारस आये थे और हमे चुनाव प्रचार के लिए सासाराम ले गए। वहां बहुत छोटी मुलाकात हुई। बाद में जब हम छात्र संघ का चुनाव जीते तो बाबू जी को हमारे चुनाव जीतने की खबर सच्चिदा भाई ने ही दिया। बाबू जी ने सच्चिदा भाई से कहा इसे दिल्ली बुलाओ। जब ये बात हो रही थी तो उस समय बहुगुणा जी ( स्वर्गीय हेमवती नंदन  बहुगुणा ) वहां मौजूद थे, यह जिम्मेदारी बहुगुणा जी ने ले ली और हमारी मुलाकात बाबू जी से हो गई।आजीवन मिलते रहे । 

 इन लोंगो में पंच और विट गजब का रहा। हम जब भी मिलते बाबू जी बे रोक टोक बोलते - आइए अध्यक्ष जी । और हम  बोलते  - जी मंत्री जी । और जोर का ठहाका लगता। एक दिन बाबू जी ने कहा - हमारे साथ कोई फोटो नही खिंचवाना चाहते? कैमरा देखते ही खिसक जाते हो ? इतना भद्दा हूँ ? हमे अंदर से तकलीफ हुई। विश्विद्यालय ने उनके साथ जो किया था, वो याद आ गया। हम चुपचाप संजीदा बने बैठे रहे। अचानक टाइम्स के फोटो ग्राफर आ गए। हम उठे और बाबू जी के बगल में जाकर बैठ गए। फोटो हो गया। हम उठे, चलने को हुए, हाथ जोड़ कर नमस्कार किया, उन्हें कुछ असहज लगा।

बोले- बैठिए अभी नहीं जाना है काफी पीकर जाओ। बोलो, कुछ बोलना चाहते हो ? हमने कहा - हम आपसे नाराज हैं, आपने आज जो बोला है। - हम जानते थे, तुम्हे तकलीफ हुई है, अब नही बोलूंगा। समाजवादी हो न। बाद में सब सहज जो गया और एक दिन हमने बाबू जी का कैरिकेचर बनाया। हमने कहा इसपर दस्तखत करिये यह हमारी पूंजी है और रहेगी, जब आप याद आओगे हमारे  दराज से यह कागद बाहर आएगा। नमन बाबू जी ! आज आपका जन्मदिन है ।
- लेखक एक वरिष्ठ पत्रकार हैं

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :