मीडिया Now - दूसरी लहर के 45 दिनों में कच्छमित्र अख़बार में छपने वाली श्रद्धांजलियों की संख्या 3604

दूसरी लहर के 45 दिनों में कच्छमित्र अख़बार में छपने वाली श्रद्धांजलियों की संख्या 3604

medianow 05-07-2021 17:47:06


रवीश कुमार / कच्छमित्र कच्छ से छपने वाला एक महत्वपूर्ण अख़बार है। इस अख़बार ने 11 अप्रैल से 25 मई के बीच अपने ही अख़बार में छपी श्रद्धांजलियों का अध्ययन कर एक चार्ट बनाया है। अख़बार के मुताबिक़ इस समाचार पत्र में  आम  दिनों में हर रोज में हर रोज 25 से 30 मृत्युनोध छपती थी। गुजराती में श्रद्धांजलि को मृत्युनोध करते हैं। कोरोना की दूसरी लहर के  दौरान 11 अप्रैल से 25 मई के बीच 45 दिनों के दौरान औसतन 25 मृत्युनोध की जगह  हर रोज ये संख्या बढ़ती गई और 28 अप्रैल को सबसे जयादा 145 मृत्युनोध छपी.  11 दिन ऐसे रहे जब हर रोज 100 से ज़्यादा मौतें हुईं।  23 दिन ऐसे थे जब हर रोज 50 से जयादा मृत्युनोध छपी। 

इस तरह 45 दिनमे कुल 3604 मृत्यु नोध छपी जबकि सरकारी रिकार्ड में एक भी दिन कोरोना से होने वाली मौत की संख्या 10 से ज़्यादा नहीं थी। इस दौरान कोरोना से और भी कई मौत हुई होगी जिनका नाम इस समाचार पत्र की  मृत्युनोध तक पहुंचे ही नहीं होंगे। सामान्य रूपसे इस समाचार पत्र में आधे पन्ने में मृत्युनोध छपती हे जबकि कई बार ढाई तीन पन्नो में सिर्फ मृत्युनोध ही थी. सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना से मरे हुए लोगो के परिजनों को मुआवज़ा देने का आदेश दिया है,कच्छ में इन 45 दिनों में  सरकारी रेकार्ड की 10 की संख्या से पांच या दस गुना लोग मरे। क्या इन सभी लोगो के परिजनों को सरकार की तरफ से आपदा राहत के तहत मुहावजा मिलने की कोई सम्भावना है  ?कच्छमित्र ने यह ख़बर 2 जुलाई को छापी है।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :