मीडिया Now - मोदी का “दीदी ओ दीदी”

मोदी का “दीदी ओ दीदी”

medianow 13-04-2021 12:48:54


श्याम मीरा सिंह / किसी महिला को दीदी कहकर संबोधित करने में कोई बुराई नहीं है. पर किसी वाक्य का मूल्यांकन महज़ शब्दों से नहीं किया जाता उसके लहजे, परिस्थिति, आवाज़ की टोन और उसके उद्देश्य से भी किया जाता है. प्रधानमंत्री जिस लहजे में “दीदी ओ दीदी” कहते कहते हैं वो न केवल एक प्रीडेटर जैसा लहजा है बल्कि ओरल हरासमेंट भी है. अगर इस लहजे में कोई कर्मचारी अपनी ऑफ़िस की किसी महिला को संबोधित कर दे तो सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्धारित विशाखा गाइडलाइंस के तहत ऐसे आदमी पर तुरंत कार्रवाई हो जाए.

लेकिन दुर्भाग्य से प्रधानमंत्री ऑफ़िस पर इस तरह का अंकुश लगाने वाला कोई क़ानून नहीं है. प्रधानमंत्री विदेशों में 135 करोड़ भारतीयों का प्रतिनिधित्व करते हैं लेकिन उनका लहजा किसी लिच्चड़ गली छाप मवाली जैसा है. मैं लिच्चड कहकर प्रधानमंत्री पद का अपमान नहीं कर रहा बल्कि उस लहजे में भरे मंच से संबोधन करके प्रधानमंत्री खुद प्रधानमंत्री पद को बार बार अपमानित कर रहे हैं.

अच्छा होता कि ममता बनर्जी और उनकी पार्टी की आपत्ति के बाद प्रधानमंत्री उसी मंच से माफ़ी मांगते जिससे उन्होंने एक स्टेट की महिला मुख्यमंत्री को अपमानित करने की कोशिश की. अगर मंच से माफ़ी नहीं माँग सकते तो ट्विटर से ही माफ़ी माँग लेते. इतना भी नहीं कर सकते थे तो अगली बार इसे दोहराते ही नहीं. जनता इसे ही हाई मोरल ग्राउंड समझ लेती. लेकिन नहीं... प्रधानमंत्री ने अपनी बेहूदगी को वैध साबित करने के लिए दोबारा हर मंच से वही बात दोहराई. हर जगह मवालियों के लहजे में संबोधित किया “दीदी ओ दीदी”

राजनीतिक प्रतिद्वंदिताएँ एक तरफ़ हैं, वैचारिक मतभेद एक तरफ़ हैं लेकिन इस तरह से देश के सर्वोच्च पद की गरिमा को मिट्टी में मिला देने का हक़ किसी को नहीं है. प्रधानमंत्री ने ये पद कोई टेस्ट पास करके नहीं कमाया, न उनके पिता ने उनके नाम किया. जो वो इसे “डैड गिफ़्ट” कहकर जितना चाहे मिट्टी में मिलाते. प्रधानमंत्री का इस देश के 135 करोड़ देशवासियों और संसद में बहुमत के सांसदों ने उन्हें सौंपा है. अगर वे इसका सम्मान नहीं बढ़ा सकते तो इसे मिट्टी में भी न मिलाएँ.. 

ये बात केवल नरेंद्र मोदी की आलोचना की नहीं है, ये देश के प्रधानमंत्री पद की बात है, एक स्टेट की महिला मुख्यमंत्री की डिग्निटी की बात है. अगर कोई भी देश के सबसे सम्मानित पद पर बैठकर किसी स्टेट की महिला मुख्यमंत्री को “दीदी ओ दीदी” कहते हुए इस पद के सम्मान को किसी छिनाल टपोरी गली छाप गुंडे के बराबर लाने पर आमादा हो जाए तो देश के नागरिकों को ऐसी आवारगी करने वाले आदमी का प्रतिकार करना चाहिए....
- लेखक आजतक के पत्रकार हैं

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :