मीडिया Now - उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मद्देनजर एम्स में ओपीडी रहेगी बंद, आपातकालीन सेवा रहेगी चालू, टेलीमेडिसन सेवा होगी शुरू

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मद्देनजर एम्स में ओपीडी रहेगी बंद, आपातकालीन सेवा रहेगी चालू, टेलीमेडिसन सेवा होगी शुरू

medianow 19-04-2021 16:08:07


ऋषिकेश। उत्तराकंड में कोविड19 के तेजी से बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश ने ओपीडी सेवाओं को बंद करने का निर्णय लिया गया है। मरीजों की सुविधा के लिए संस्थान की ओर से टेलीमेडिसिन सेवाएं शुरू की गई हैं। लिहाजा अब सभी सामान्य रोगों से ग्रसित मरीज टेलीमेडिसिन ओपीडी के माध्यम से संबंधित चिकित्सकों से जरुरी परामर्श ले सकेंगे। इसके साथ ही कोविड संक्रमण से ग्रसित मरीजों के उपचार के लिए एम्स अस्पताल प्रशासन ने 300 से अधिक बेड आरक्षित किए हैं। बताया गया है कि आवश्कता पड़ने पर इनकी संख्या 500 तक की जाएगी।

टेलीमेडिसन से देखें जाएंगे मरीज
कोरोना वायरस से ग्रसित मरीजों की लगातार में लगातार बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है। जिसके चलते एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत की देखरेख में एम्स अस्पताल प्रशासन ने कुछ व्यवस्थाओं में बदलाव किया है। जिनके तहत अस्पताल में जनरल ओपीडी को बंद करने का निर्णय किया। अब टेलीमेडिसिन ओपीडी के माध्यम से मरीजों को परामर्श दिया जाएगा। इस बाबत एम्स के डीन हॉस्पिटल अफेयर्स प्रोफेसर यूबी मिश्रा ने बताया कि तेजी से फैल रहे कोविड संक्रमण को देखते हुए संस्थान में जनरल ओपीडी सेवाएं स्थगित करने का निर्णय लिया गया है। ऐसे में सामान्य रोगों से ग्रस्त सभी मरीज अब टेलीमेडिसिन ओपीडी के माध्यम से देखे जाएंगे।

इमरजेंसी सेवा 24 घंटे रहेंगी जारी
अस्पताल की इमरजेंसी सेवा पूर्व की भांति 24 घंटे जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि लोगों को अनावश्यक परेशानी से बचने के लिए एम्स की ओर से संचालित की जा रही टेलीमेडिसिन ओपीडी सेवाओं का लाभ लेना चाहिए। इससे मरीजों को संबंधित बीमारी के लिए घर बैठे चिकित्सकीय परामर्श भी मिल सकेगा और वह अनावश्यकरूप से घर से बाहर निकलकर कोविड संक्रमण से भी सुरक्षित रह सकेंगे।

कोविड के मद्देनजर 300 बेड रिजर्व
कोविड संक्रमण से ग्रसित मरीजों के उपचार के बाबत उन्होंने बताया एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत के निर्देशन में कोविड मरीजों के लिए 500 बेड आरक्षित करने का लक्ष्य रखा गया है। फिलहाल वर्तमान में एम्स में कोविड मरीजों के लिए 300 से अधिक बेड रिजर्व रखे गए हैं। जिनमें 80 बेड आईसीयू सुविधायुक्त हैं। डीएचए के अनुसार गंभीर किस्म के कोविड मरीजों के उपचार के लिए अस्पताल में 100 वेन्टिलेटर उपलब्ध हैं। बताया कि कोविड मरीजों के लिए एम्स में एक आपातकालीन केंद्र स्थापित किया गया है। जिसमें कोविड मरीजों की जांच और उन्हें अस्पताल में भर्ती करने संबंधी प्रक्रियाएं पूर्ण की जाएंगी।

दूसरी लहर ज्यादा घातक
उधर, कोविड के तीब्र गति से बढ़ते संक्रमण के प्रति आगाह करते हुए कम्युनिटी और फेमिली मेडिसिन विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डा. योगेश बहुरूपी ने बताया कि कोविड की दूसरी लहर पहली लहर से कईगुना अधिक घातक है लिहाजा प्रत्येक व्यक्ति को इसकी गंभीरता को समझना होगा और भारत सरकार व राज्य सरकार द्वारा जारी कोविड गाइडलाइन का शब्दश: पालन करना होगा।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :