मीडिया Now - मुल्क को बचाने की जिम्मेदारी अब सिर्फ जनता के बीच काम करने वाले संगठनों और समूहों की है

मुल्क को बचाने की जिम्मेदारी अब सिर्फ जनता के बीच काम करने वाले संगठनों और समूहों की है

medianow 25-04-2021 20:19:45


उर्मिलेश / निज़ाम ने अवाम को उसके हाल पर छोड़ दिया है! उससे उम्मीद करना व्यर्थ है. उसकी प्राथमिकताए कुछ और हैं. लोगों को बचाने और उनकी सहायता के लिए समाज को स्वयं आगे आना होगा. एक दौर में ज्योति बा फुले और सावित्रीबाई फुले ने राह दिखाई थी. वे पीड़ित मनुष्यता को बचाने के लिए आगे आए थे. ऐसा ही कुछ वो दौर भी था. वे अपने साथियो, समर्थकों और शुभचिंतकों को लेकर सेवा और सहायता में जुट गये. अच्छी बात है कि आज सियासत और समाज में चाहे जितनी गिरावट आई हो, हमारे यहां आज भी कुछ समूह, संस्थाएं और लोग जितना संभव है, करने की कोशिश कर रहे हैं. मुझे यह कहने में कोई संकोच नहीं कि इस दिशा में गुरुद्वारों, सिख समुदाय के कुछ स्वयंसेवी संगठनों और व्यक्ति-समूहों ने उल्लेखनीय काम किया है और लगातार कर रहे हैं. संभवतः उनसे प्रेरित होकर कुछ अन्य धार्मिक संस्थाओं ने भी दिल्ली सहित कुछ जगहों पर सेवा या राहत का काम शुरू किया है. 

अच्छी बात है कि इधर कुछ राजनीतिक दलों के युवा संगठनों और प्रकोष्ठो ने इस दिशा में सकारात्मक पहल की है. इसे पंजाब, हरियाणा, दिल्ली से बाहर के राज्यों में भी ले जाने की जरूरत है. हमारी जानकारी के मुताबिक केरल में राज्य प्रशासन द्वारा स्थापित कई समूह बहुत अच्छा काम कर रहे हैं. लोगों को पका हुआ भोजन,  खाद्यान्न, फल सब्जी और दवाओं की आपूर्ति भी कर रहे हैं. तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में भी ऐसे काम हो रहे हैं. अन्य जगहों की ज्यादा जानकारी नही मिली है. शासन-प्रशासन का सबसे बुरा हाल हिंदी-भाषी राज्यों में है. इसलिए यहां गैर सरकारी संगठनों को ज्यादा पहल करने की जरुरत है. जिन घरों में लोग बीमार पड़े हैं, उन्हें पके भोजन, आवश्यक दवाएं और उपकरण आदि की जरुरत है. गुरु नानक, कबीर, ज्योति बा फुले, सावित्री बाई फुले, श्रीनारायण गुरु और अय्यंकाली जैसे महान् समाज-सुधारकों के मुल्क को बचाने की जिम्मेदारी अब सिर्फ और सिर्फ जनता के बीच काम करने वाले संगठनों और समूहों की है. 

वाहे गुरु दा खालसा, वाहे गुरु दी फतह!
- लेखक एक वरिष्ठ पत्रकार हैं

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :