मीडिया Now - पश्चिम बंगाल में हुई रैलियों के रुझान आने शुरू हो गए हैं!

पश्चिम बंगाल में हुई रैलियों के रुझान आने शुरू हो गए हैं!

medianow 25-04-2021 22:38:27


प्रियंका सिंह / ये लीजिए पश्चिम बंगाल में हुई रैलियों के रुझान आने शुरू हो गए हैं! बंगाल चुनाव के बीच कोलकाता में कोरोना बम फूट गया है। टेस्टिंग करवा रहा हर दूसरा शख्स पॉजिटिव निकल रहा है। पूरे राज्य  में कोरोना के रिकॉर्डतोड़ मामले सामने आने लगे हैं और कोलकाता का हाल तो और भी बुरा है। यहां कोरोना की आरटी-पीसीआर जांच करवा रहा हर दो में से एक शख्स पॉजिटिव पाया जा रहा है। राज्य स्तर की बात करें तो चार में से एक शख्स की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है।

यह संख्या पिछले महीने के मुकाबले पांच गुना ज्यादा है। एक महीने पहले 20 कोरोना जांचों में सिर्फ एक शख्स की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई जा रही थी। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार कोलकाता और उसके आसपास के इलाकों की लैब्स जो कोरोना जांच कर रही हैं, उस जांच में 45-55% पॉजिटिविटी रेट मिल रहा है। वहीं, राज्य के दूसरे शहरों में यह 24% के आसपास है। डॉक्टर्स का कहना है कि असल में पॉजिटिविटी रेट तो कहीं ज्यादा है। कई लोग हैं, जिन्हें हल्के या फिर कोई लक्षण नहीं हैं और वे कोरोना संक्रमित हैं, लेकिन उन्होंने अभी तक जांच नहीं करवाई है। 1 अप्रैल को बंगाल में 25,766 लोगों की कोरोना टेस्टिंग हुई थी, जिसमें से 1274 लोग पॉजिटिव पाए गए थे। ये पॉजिटिविटी रेट 4.9% की थी। वहीँ 24 अप्रैल को 55,060 लोगों की जांच हुई, जिसमें से 14,281 लोग पॉजिटिव मिले। यह दर 25.9% है।

इस सब के बीच पश्चिम बंगाल में चुनावी रैलियां धड़ल्ले से चलती रहीं। चाहे बीजेपी हो, टीएमसी या कॉंग्रेस किसी ने इसके बारे में नहीं सोचा और ना ही बढ़ते कोरोना केसिस की खबर सामने आने दी गयीं। राहुल गांधी को भी कोरोना पॉजिटिव होने के एक दिन पहले ही ज्ञान की प्राप्ति हुई कि कांग्रेस अब पश्चिम बंगाल में रैली नहीं करेगी। रही बात बीजेपी और टीएमसी की तो उन्हें तो इस दिव्य ज्ञान की प्राप्ति हुई ही नहीं। मोदी-शाह तो बगैर मास्क के लाखों की भीड़ पर तालियां बजा रहे थे और ममता बनर्जी खेला खेल रही थीं। चुनाव आयोग के दिव्य चक्षु भी कोलकाता हाई कोर्ट की लताड़ के बाद ही खुले और उसने पश्चिम बंगाल चुनाव के अंतिम फेज से सिर्फ सात दिन पहले रोड शो और वाहन रैली पर रोक लगाई। अब पश्चिम बंगाल में फूटे कोरोना बम का जिम्मेदार कौन है? जाहिर है, सभी राजनीतिक पार्टियां जिन्होने वहां रैली की और साथ ही चुनाव आयोग, जो इतने वक़्त तक मूक दर्शक बन कर बैठा रहा!!
- लेखिका एक वरिष्ठ पत्रकार हैं

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :