मीडिया Now - प्रमुख अर्थशास्त्री व केन्द्रीय वितमंत्री के पति परकला प्रभाकर ने कोरोना से लड़ाई में सरकार की विफलताओं की खोली पोल

प्रमुख अर्थशास्त्री व केन्द्रीय वितमंत्री के पति परकला प्रभाकर ने कोरोना से लड़ाई में सरकार की विफलताओं की खोली पोल

medianow 26-04-2021 11:21:07


देहरादून। जब देश में अस्पतालों व अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त करने का समय था तब देश में तालियां और थालियां बजाई जा रही थी। ये बात केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने मोदी सरकार पर कोरोना संक्रमण से निपटने पर विफलता का आरोप लगाते हुए कही। वित्त मंत्री के पति परकला प्रभाकर देश के जाने-माने अर्थशास्त्री हैं। 

उन्होंने कोरोना संकट को लेकर मोदी सरकार पर नाराजगी जाहिर की और जमकर आलोचना की। उन्होंने कहा कि सरकार लोगों की मदद करने के बजाय हेडलाइन मैनेजमेंट और अपनी पीठ थपथपाने में लगी हुई है। वह अपने यूट्यूब चैनल पर एक कार्यक्रम के दौरान बोल रहे थे। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह की तारीफ करते हुए कहा कि उनका सुझाव रचनात्मक था लेकिन इसपर केंद्रीय मंत्री ने बहुत असभ्य प्रतिक्रिया दी और इसे सियासी जामा पहनाने की कोशिश की।उन्होंने कहा, ‘भारत में कोरोना संक्रमण दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ रहा है। मौतें रिकॉर्ड तोड़ रही हैं। यह स्वास्थ्य आपातकाल की स्थिति है।

केंद्र सरकार की तैयारी और उनकी जवाबदेही को परखने का वक्त है। इन्हें अपनों की मौत कष्टदायी लगती है और दूसरों की मौत महज़ आंकड़ा दिखाई देती है।’अर्थशास्त्री प्रभाकर ने कहा, इस संकट की वजह से लोगों की नौकरियां जा रही हैं। इलाज कराने में जमापूंजी भी खत्म हो जा रही है। ज्यादातर लोग वित्तीय नुकसान से उबर नहीं पा रहे हैं। जबसे महामारी का प्रकोप शुरू हुआ है, देश में करीब 1.80 लाख लोगों की जान जा चुकी है। उन्होंने कहा कि वास्तविक आंकड़े पेश नहीं किए जा रहे हैं।

आंकड़ा वास्तविक स्थिति से काफी कम है।उन्होंने कहा कि लगातार टेस्टिंग में भी कमी आ रही है और वैक्सिनेशन की रफ्तार बहुत कम है। हॉस्पिटल और लैब सैंपल ही नहीं ले रहे हैं। अस्पतालों पर इतना दबाव है कि वह समय पर रिपोर्ट नहीं दे पा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि रविवार को 3.56 लाख टेस्ट हुए जो कि एक दिन पहले से 2.1 लाख कम हैं। श्मशानों में कतार है, बेड के लिए मारामारी चल रही है लेकिन किसी राजनेता या धार्मिक नेता के कान पर जूं नहीं रेंग रही है।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :